Tag: अध्याय 5

श्रीमद् भगवत गीता – अध्याय 5: कर्म-सन्यास योग: श्लोक- १९

श्रीमद् भगवत गीता – अध्याय 5: कर्म-सन्यास योग: श्लोक- १९

हिन्दी अनुवाद: प्रो सी बी श्रीवास्तव विदग्धमो ०९४२५४८४४५२ इहैव तैर्जितः सर्गो येषां साम्ये स्थितं मनः ।निर्दोषं हि समं ब्रह्म तस्माद् ...

श्रीमद भवगत गीता- अध्याय 4: ज्ञान-संन्यास योग: श्लोक- ३२

श्रीमद् भगवत गीता- अध्याय 5: कर्म-सन्यास योग: श्लोक- १८

हिन्दी अनुवाद: प्रो सी बी श्रीवास्तव विदग्धमो. ०९४२५४८४४५२ विद्याविनयसम्पन्ने ब्राह्मणे गवि हस्तिनि ।शुनि चैव श्वपाके च पण्डिताः समदर्शिनः ॥ ब्राम्हण,गौ,हाथी ...

श्रीमद भवगत गीता- अध्याय 4: ज्ञान-संन्यास योग: श्लोक- १

श्रीमद् भगवत गीता- अध्याय 5: कर्म-सन्यास योग: श्लोक- १५

हिन्दी अनुवाद: प्रो सी बी श्रीवास्तव विदग्धमो ०९४२५४८४४५२ नादत्ते कस्यचित्पापं न चैव सुकृतं विभुः ।अज्ञानेनावृतं ज्ञानं तेन मुह्यन्ति जन्तवः ॥ ...

श्रीमद् भगवत गीता- अध्याय 5: कर्म-सन्यास योग: श्लोक- १४

श्रीमद् भगवत गीता- अध्याय 5: कर्म-सन्यास योग: श्लोक- १४

हिन्दी अनुवाद: प्रो सी बी श्रीवास्तव विदग्धमो ०९४२५४८४४५२ न कर्तृत्वं न कर्माणि लोकस्य सृजति प्रभुः ।न कर्मफलसंयोगं स्वभावस्तु प्रवर्तते । ...

श्रीमद भवगत गीता- अध्याय 4: ज्ञान-संन्यास योग: श्लोक- १०

श्रीमद् भगवत गीता- अध्याय 5: कर्म-सन्यास योग: श्लोक- ११

हिन्दी अनुवाद: प्रो सी बी श्रीवास्तव विदग्धमो. ०९४२५४८४४५२ कायेन मनसा बुद्धया केवलैरिन्द्रियैरपि ।योगिनः कर्म कुर्वन्ति संग त्यक्त्वात्मशुद्धये ॥ तन से,मन ...

ग्राम पंचायत पुसावड़ में 256 परिवारों को मनरेगा अंतर्गत उपलब्ध कराया गया रोजगार, “नहर मरम्मत स्लूज गेट एवं लाईनिंग कार्य” प्रगति पर, जिसमें 69 मजदूर हैं कार्यरत

श्रीमद् भगवत गीता- अध्याय 5: कर्म-सन्यास योग: श्लोक- १०

हिन्दी अनुवाद: प्रो सी बी श्रीवास्तव विदग्धमो ०९४२५४८४४५२ ब्रह्मण्याधाय कर्माणि सङ्‍गं त्यक्त्वा करोति यः ।लिप्यते न स पापेन पद्मपत्रमिवाम्भसा ॥ ...

श्रीमद् भगवत गीता – अध्याय 5: कर्म-सन्यास योग: श्लोक- ३

श्रीमद् भगवत गीता- अध्याय 5: कर्म-सन्यास योग: श्लोक- ८

हिन्दी अनुवाद: प्रो सी बी श्रीवास्तव विदग्धमो ०९४२५४८४४५२ नैव किंचित्करोमीति युक्तो मन्येत तत्ववित्‌ ।पश्यञ्श्रृण्वन्स्पृशञ्जिघ्रन्नश्नन्गच्छन्स्वपंश्वसन्‌ ॥प्रलपन्विसृजन्गृह्णन्नुन्मिषन्निमिषन्नपि ॥इन्द्रियाणीन्द्रियार्थेषु वर्तन्त इति धारयन्‌ ॥ ...

श्रीमद् भगवत गीता- अध्याय 5: कर्म-सन्यास योग: श्लोक- ७

श्रीमद् भगवत गीता- अध्याय 5: कर्म-सन्यास योग: श्लोक- ७

हिन्दी अनुवाद: प्रो सी बी श्रीवास्तव विदग्धमो ०९४२५४८४४५२ ( सांख्ययोगी और कर्मयोगी के लक्षण और उनकी महिमा ) योगयुक्तो विशुद्धात्मा ...

श्रीमद भवगत गीता- अध्याय 4: ज्ञान-संन्यास योग: श्लोक- १

श्रीमद् भगवत गीता – अध्याय 5: कर्म-सन्यास योग: श्लोक- ६

हिन्दी अनुवाद: प्रो सी बी श्रीवास्तव विदग्धमो ०९४२५४८४४५२ सन्न्यासस्तु महाबाहो दुःखमाप्तुमयोगतः ।योगयुक्तो मुनिर्ब्रह्म नचिरेणाधिगच्छति ॥ कर्मयोग बिन पर सदा है ...

श्रीमद् भगवत गीता – अध्याय 5: कर्म-सन्यास योग: श्लोक- १

श्रीमद् भगवत गीता – अध्याय 5: कर्म-सन्यास योग: श्लोक – ५

हिन्दी अनुवाद: प्रो सी बी श्रीवास्तव विदग्धमो ०९४२५४८४४५२ यत्साङ्‍ख्यैः प्राप्यते स्थानं तद्यौगैरपि गम्यते ।एकं साङ्‍ख्यं च योगं च यः पश्यति ...

Page 1 of 2 1 2

संपर्क

Editor - Niharika Shrivastav

Mob No. - 7000986092

Email id - ghumtidunia@gmail.com

Address - Shriram Nagar , Phase 01, Street 6, Raipur (C.G.) Pin - 492001

ये भी पढ़ें

कैटेगरी

खबरें और भी